आप यहाँ है: मुख्यपृष्ठ

वीर जारा - दो पल (Veer Zaara - Do Pal Lyrics)

( 46 Votes )
उपयोगकर्ता अंक: / 46
ख़राबश्रेष्ठ 
वीर-ज़ारा दो पल

दो पल (Do Pal)
   फिल्म - वीर-ज़ारा (Veer Zaara)

   संगीत- लता मंगेशकर, रूप सिंह राठौर
  
दो, पल रुका, ख्वाबों का कारवाँ
और फिर, चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ

दो पल की थी, ये दिलों की दास्तान
और फिर, चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ  
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ  
 
तुम थे के थी कोई उजली किरण
तुम थे या कोई कली मुस्काई थी  
तुम थे या था सपनों का था सावन
तुम थे के खुशियों की घटा छाई थी  
तुम थे के था कोई फूल खिला  
तुम थे या मिला था मुझे नया जहाँ  
दो पल रुका ख्वाबों का कारवाँ
और फिर चल दिए तुम कहाँ हम कहाँ  
दो पल की थी, ये दिलों की दास्तान
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ  
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ  
 
तुम थे या खुशबु हवाओं में थी
तुम थे या रंग सारी दिशाओं में थे  
तुम थे या रोशनी राहों में थी
तुम थे या गीत गूँजे फ़िज़ाओं में थे  
तुम थे मिले या मिली थी मंज़िलें  
तुम थे के था जादू भरा कोई समा  
दो पल रुका ख्वाबों का कारवाँ
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ  
दो पल की थी, ये दिलों की दास्तान
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ  
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ  
और फिर चल दिए, तुम कहाँ, हम कहाँ

 

पढ़िए "वीर-ज़ारा" के और गीत:

मैं यहाँ हूँ तेरे लिए, हम हैं जिए

 

चर्चित लेख

 

नवीनतम लेख

 

जन्मदिन

 
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन

हमे ढूंढे

 

भारत एक विविधिताओं का देश है| यहाँ अनगिनत धर्मों, मज़हबों, जातियों, संस्कृतीयो, भाषाओं, त्योहारों, लोकगीतों आदि का एक अद्भुत और भव्य संगम है |
और पढ़े...

ई-मेल:

फ़ोन नंबर: +91-9971138071


Feedback Form
Feedback Analytics