आप यहाँ है: मुख्यपृष्ठ फिल्म गाने नया दौर गजिनी-बहका (Ghajini - Behka Lyrics)

गजिनी-बहका (Ghajini - Behka Lyrics)

( 2 Votes )
उपयोगकर्ता अंक: / 2
ख़राबश्रेष्ठ 
गजिनी-बहका

बहका (Behka)
फिल्म -
गजनी (Ghajini)
संगीत - ए.आर.रहमान


बहका मैं बहका, वो बहकी हवा सी आई
एक ही नज़र में सब, मंज़िल वंज़िल पाई
हटके अलग सी थी, बिल्कुल जुदा सी

ना ही अदायें, ना को आंगड़ाई
बहका बहका मैं बहका बहका
महका महका यह मन है महका
बहका में बहका, वो बहकी हवा सी आई
एक ही नज़र में सब, मंज़िल वंज़िल पाई

धड़कन धक धक धक धक धक हुई
दिल था था था था था थाई
चल डगमग मॅग डगमग मॅग हुई
झूमू में झमक झमाझम
रास्ता ताकूं ताकूं ताकूं ताकूं ताकूं में
पल पल जागूं जागूं जागूं जागूं न मैं
बार बार बदल करवट, उसको सोचूँ में
बहका बहका मैं बहका बहका
महका महका यह मन है महका
गुज़रे जहाँ से वो, रौनक उड़ाए
छलके नदी सी वो, मुझको भिगोटी जाए...
वो गुण गुनाए, नगिने लुटाए
खट्टा सा बचपन, मीठी शरारत
थोड़ा रेशम है, थोड़ी नज़ाकत
कभी शरमाये, कभी लहराए
उसमें साहिल है और जाने कितनी गहरइइ
बहका मैं बहका, वो बहकी हवा सी आई
एक ही नज़र में सब, मंज़िल वंज़िल पाई
हटके अलग सी थी, बिल्कुल जुदा सी
ना ही अदायें, ना को आंगड़ाई

बहका बहका मैं बहका बहका
महका महका यह मन है महका
उसकी बोली, जैसे फूलों की टोली
उसका चलना, रितुएँ बदलना
झूट भी उसके सच्चे लगे अच्छे लगे
सच से भी बड़े लगे..
राहों में उसकी, हाथ बाँधे पलके
बिछाए हुए सर को झुकाए हुए
खुश्बूओं से छाए हुए
टकटकी लगाए हुए साथ साथ जाने कितने
सारे मौसम खड़े रहें..
(बहका मैं बहका, वो बहकी हवा सी आई
एक ही नज़र में सब, मंज़िल वंज़िल पाई) - 2
हटके अलग सी थी, बिल्कुल जुदा सी
ना ही अदायें, ना को आंगड़ाई
(बहका में हाँ बहका बहका मैं
बहका में हाँ बहका बहका बहका में) - 3
 

कलाकार - आमिर खान, असिन


पढ़िए 'गजनी' के और गाने:

लट्टू लट्टू ए बच्चू कैसे मुझे तुम गुज़ारिश

चर्चित लेख

 

नवीनतम लेख

 

जन्मदिन

 
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन

हमे ढूंढे

 

भारत एक विविधिताओं का देश है| यहाँ अनगिनत धर्मों, मज़हबों, जातियों, संस्कृतीयो, भाषाओं, त्योहारों, लोकगीतों आदि का एक अद्भुत और भव्य संगम है |
और पढ़े...

ई-मेल:

फ़ोन नंबर: +91-9971138071


Feedback Form
Feedback Analytics