आप यहाँ है: मुख्यपृष्ठ

अमिताभ बच्चन

altजन्म नाम: इन्किलाब श्रीवास्तव

जन्म तिथि: 11 अक्टूबर, 1942

पहली फिल्म: सात हिन्दुस्तानी

पहली सफल फिल्म: जंजीर

उपनाम: बिग बी,एंग्री यंग मेन,शहेंशाह

बिग बी के नाम से जाने जाने वाले अमिताभ बॉलीवुड के शहेंशाह भी कहे जाते है| 40 साल बाद भी आज बॉलीवुड में उनके कद के सामने कोई नहीं है और  67 की उम्र में भी आज वे बॉलीवुड के सबसे व्यस्त अभिनेताओं में गिने जाते है| शुरू में जिस बाहरी आवाज़ के कारण  निर्देशकों ने अमिताभ को अपनी फिल्मों से लेने को मना कर दिया था, वही आवाज़ आगे चलकर उनकी विशिष्टता बनी| 40 साल के पेशे में उन्हें दर्शकों ने अनेको नाम दिए: बिग बी , शहेंशाह,  एंग्री यंग मेन आदि| अमिताभ ने न सिर्फ बड़े परदे पर खुद को साबित किया पर छोटे परदे पर भी नए आयाम स्थापित किये| धारावाहिक कौन बनेगा करोडपति से उन्होंने अपनी जिंदगी की नयी पारी की शुरुआत की थी और एक के बाद एक नया उच्चमान हासिल करते गए| एक अभिनेता के आलावा, अभिताभ एक गायक, निर्माता और सांसद की भूमिका भी निभा चुके है|

और पढ़े...

नमक हराम - दिय जलते है

दिए जलते हैं (Diye Jalte Hain)
   फिल्म - नमक हराम (Namak Haraam)
   गायक - किशोर कुमार


दिए जलते हैं फूल खिलते हैं
बड़ी मुश्किल से मगर दुनिया में दोस्त मिलते हैं
दिए जलते हैं

और पढ़े...  

काला पत्थर

काला पत्थर यश चोपड़ा द्वारा निर्देशित हिंदी फिल्म है| फिल्म के मुख्य कलाकार अमिताभ बच्चन, शशि कपूर, राखी, नीतू सिंह, शत्रुघ्न सिन्हा, परवीन बाबी, प्रेम चोपड़ा, पूनम ढिल्लों हैं| फिल्म में संगीत राजेश रोशन जी ने दिया है|

विजय पाल सिंह एक कलंकित समुंद्री सेना के कप्तान है जो 300 समुंद्री यात्रियों की ज़िन्दगी खतरे में डालकर जहाज छोड़कर भाग गए थे|

और पढ़े...  

कभी ख़ुशी कभी गम - सूरज हुआ

सूरज हुआ मद्धम (Suraj Hua Madham Lyrics)
फिल्म -
कभी खुशी कभी गम (Kabhi Khushi Kabhi Gham)
गायक - अलका यागनिक, सोनू निगम

(सूरज हुआ मद्धम, चाँद जलने लगा
आसमान यह हाई क्यूँ पिघलने लगा) - 2
मैं ठहरा रहा, ज़मीन चलने लगी

और पढ़े...  

शान"दोस्तो जिंदगी हसीन है, मगर सिर्फ़ उनके लिए जिन्होने प्यार किया है, क्योकि प्यार करने वाले जानते है की आन बान और शान से जीना किसे कहते है" ये मशहूर संवाद फिल्म "शान" से है |

रमेश शिप्पी द्वारा निर्देशित फिल्म "शान" 1980 मे बनी थी|  यह रमेश शिप्पी की शोले के बाद दूसरी फिल्म है जिसमे अमिताभ बच्चन ने काम किया है | ये फिल्म शोले  की तरह तो सफल नही हुई लेकिन अमिताभ बच्चन के लिए सफल फिल्मों में ज़रूर जुड़ गयी| इस फिल्म के गानों के लिए आर. डी. बर्मन जी को फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार से सम्मानित किया गया |

और पढ़े...  

सरकार राज सफलता  अगर सही समय पर भुनाई जाए तो कितनी फयदेमंद हो सकती है ये राम गोपाल वेर्मा से कोई सीखे| सरकार की अदभुत सफलता के तुरंत बाद सरकार राज को रेकॉर्ड समय में पूरा किया गया और सरकार राज निराश भी नही करती| सरकार राज सरकार की पूरक है|

और पढ़े...  

चुपके चुपके

हँसा हँसा कर पेट में दर्द पैदा करने वाली फिल्म | ये एक वाक्य चुपके चुपके को बयान करता है| ऋषिकेश मुखर्जी की चुपके चुपके बॉलीवुड की सबसे बेहतरीन हास्य फ़िल्मो में से एक है| वे इससे पहले भी आनंद, अभिमान जैसी उम्दा फिल्में दे चुके है|

और पढ़े...  

मुकद्दर का सिकंदर - ओ साथी रे

ओ साथी रे (O Saathi Re)
    फिल्म - मुक़द्दर का सिकंदर (Mukaddar Ka Sikandar)

    गायक - किशोर कुमार


(ओ साथी रे, तेरे बिना भी क्या जीना) -2
फूलों मे, कलियों मे, सपनों की गलियों मे

और पढ़े...  

त्रिशूल

"दीवार" और "कभी कभी" के बाद यश चोपरा की त्रिशूल भी अमीर-ग़रीब, परिवारिक रंजिशों पर आधारित है|त्रिशूल फिल्म है एक बेटे का अपनी माँ के साथ हुए अन्याय का बदला लेने की| त्रिशूल "दीवार" फिल्म के "मेरे पास माँ है" की थीम को बढ़ावा देती है|

और पढ़े...  
Powered by Tags for Joomla

चर्चित लेख

 

नवीनतम लेख

 

जन्मदिन

 
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन
  • जन्मदिन

हमे ढूंढे

 

भारत एक विविधिताओं का देश है| यहाँ अनगिनत धर्मों, मज़हबों, जातियों, संस्कृतीयो, भाषाओं, त्योहारों, लोकगीतों आदि का एक अद्भुत और भव्य संगम है |
और पढ़े...

ई-मेल:

फ़ोन नंबर: +91-9971138071


Feedback Form
Feedback Analytics